Andhadhun Movie Review: फिल्म की शुरुआत से लेकर आखिरी सीन तक आपको कुछ न कुछ चौंकाने वाले दृश्य सामने आते रहेंगे
Please Share the Post

बॉलीवुड में सस्पेंस से भरी फिल्में तो कई सारी बन चुकी हैं, लेकिन आखिरी सीन तक कुर्सी से जकड़कर बांध रख पाने वाली फिल्म ‘अंधाधुन’ (Andhadhun) की कहानी कुछ हटके है. ‘दृश्यम’ फिल्म से आकर्षिक करने वाले डायेक्टर श्रीराम राघवन ने आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) और तब्बू (Tabu) के जरिए एक या दो बार नहीं बल्कि बार-बार चौंकाया है. फिल्म में आंख पर काला चश्मा लगाए आकाश (आयुष्मान खुराना) की असलियत को पहचान पाना मुमकिन नहीं है और इसी वजह से आप आखिरी सीन तक का इंतजार करते रहेगें. तब्बू का किरदार दर्शकों के बीच थ्रिलर और सस्पेंस बनाए रखने का काम करेगा. वहीं राधिका आप्टे कम सीन मे ज्यादा प्रभावी होने मे सफल रहीं. फिल्म की शुरुआत से लेकर आखिरी सीन तक आपको कुछ न कुछ चौंकाने वाले दृश्य सामने आते रहेंगे. फिल्म की कहानी पुणे में मौजूद अंधे शख्स आकाश (आयुष्मान खुराना) के साथ शुरू होती है, जो एक कमरे के भीतर पियानो पर अपने अंगुलियों के जरिए धुन की तलाश करता है. काले चश्मे के पीछे पियानो बजाने में माहिर आकाश की मुलाकात अचानक सोफी (राधिका आप्टे) से हो जाती है. सोफी उसे अपने पापा के रेस्टॉरेंट मे काम दिला देती है. इसके बाद दोनों एक-दूसरे के करीब आ जाते हैं, लेकिन इसी दौरान अचानक एक पुराने जमाने के मशहूर एक्टर प्रमोद सिन्हा (अनिल धवन) से टकरा जाते है. वह अपनी पत्नी सिमी (तब्बू) को एनिवर्सिरी पर पियानो प्ले करके सरप्राइज देने के लिए आकाश को घर बुलाते हैं. यहां कुछ ऐसा ट्विस्ट एड टर्न आता है कि पूरी कहानी पलट जाती है. स्क्रिप्ट कसी होने की वजह से फिल्म के पहले हाफ में आपको पलक झपकाने का मौका नहीं देगी, लेकिन इंटरवेल के बाद फिल्म की कहानी थोड़ी खीचती हुई नजर आई. हालांकि क्लाइमेक्स के दौरान ‘अंधाधुन’ (Andhadhun) सस्पेंस का डोज आपको फिर से कुर्सी से चिपके रहने पर मजबूर कर देगा. राधिका आप्टे का किरदार फिल्म में रोमांस का तड़का डालने का काम करेगी, जबकि फ्रंट में आयुष्मान खुराना और तब्बू थ्रिलर, सस्पेंस, ट्विस्ट एड टर्न और कॉमेडी का भरपूर डोज देते हुए नजर आएंगे. अंधाधुन (Andhadhun) फिल्म के ज्यादातर गाने अमित त्रिवेदी ने गाये है, जो फिल्म के साथ ही चलते है. आपको पता नहीं चलेगे कि गाने कब आए और कब चले गये. वहीं बात करे बैकग्राउड स्कोर की तो सस्पेंस क्रिएट करने में काफी हद मददगार साबित हुई.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *