कांग्रेस में प्री-बगावत का एपीशोड जगदीश मेहर ने पार्टी से भरा नामांकन
Please Share the Post

बिना टिकट बंटे कांग्रेस की अेार से भर दिया नामांकन, बी-फार्म नहीं मिला तो होंगे निर्दलीय

रायगढ़ जिले में भाजपा ने प्रत्याशी घोषित किए तो पूर्व विधायक सहित कई बागी हो गए। दूसरी ओर कांग्रेस की बात करें तो यहां टिकट वितरण के पूर्व ही पार्टी में बगावत की बातें सामने आ रही हैं। आलम यह है कि टिकट की रेस में नहीं होने के बावजूद कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष और वस्त्र निगम के पूर्व अध्यक्ष जगदीश मेहर ने शुक्रवार को अपना नामांकन कांग्रेस से भर दिया। जबकि कांग्रेस के संभावितों की ओर से अब तक उस सूची का इंतजार किया जा रहा है, जो आलाकमान की ओर से जारी की जाएगी।
विधानसभा चुनाव 2018 के लिये नामांकन प्रकिया के पहले दिन रायगढ़ विधानसभा सीट के लिये पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष जगदीश मेहर ने पर्चा दाखिल किया। कांग्रेस प्रवक्ता हरेराम तिवारी द्वारा जगदीश मेहर का नाम प्रस्तावित किया गया तथा कार्तिक कृष्ण पक्ष द्वितीया तिथि एंव कृतिका नक्षत्र के शुभ काल अपराह्न 12.30 बजे जगदीश मेहर ने नामांकन पत्र प्राप्त किया व अपराह्न 3 बजे रिटर्निंग ऑफिसर शम्मी अबिदी के समक्ष नामांकन पत्र
दाखिल किया।
सबकी सहमति फिर भी नहीं आए कोई
स संबंध में जगदीश मेहर का कहना था कि मैंने कोई बगावत नहीं की है। बल्कि वर्तमान जिला अध्यक्ष और पूर्व जिला अध्यक्ष की सहमति से यहां नामांकन भरने पहुंचा हूं। यह बात और है कि जिन-जिन लोगों से मैने सहमति ली है वो यहां नहीं दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी पार्टी की ओर से प्रत्याशी की घोषणा नहीं की गई है, इसलिए कोई भी इस पार्टी से चुनाव लडऩे के लिए अपना नामांकन फार्म भर सकता है। यह बगावत नहीं है बल्कि नामांकन के लिए कम समय बचने पर मैंने ऐसा किया है।
मुझे पूरा भरोसा है कि मिलेगी टिकट
पूर्व जिला अध्यक्ष मेहर ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि टिकट उन्हें ही मिलनी है। इसलिए नामांकन भरने के पहले दिन ही मैंने अपने नामांकन से खाता खोला है।
उनके साथ कलेक्टोरेट पहुंचे कुछ समर्थकों ने बताया कि मेहर को पार्टी की ओर से टिकट देना का भरोसा दिया गया है। इसलिए उन्होंने नामांकन भरा है।
दिन भर वाट्सएप और टीवी निहारते बीते दिन
एक ओर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व जिला अध्यक्ष नामांकन पत्र दाखिल कर रहे थे। वहीं दूसरी ओर टिकट के अन्य दावेदार ओर उनके समर्थक मोबाईल पर वाट्सएप और न्यूज चैनल देख रहे थे। शुक्रवार को शाम तक सूची घोषित होनी थी। लेकिन प्रदेश कांग्रेस में तालमेल न होने के कारण कई प्रत्याशियों के नामों पर सहमति नहीं बन सकी।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *