टीम इंडिया ने टॉस जीतकर किया पहले बैटिंग का फैसला
Please Share the Post

पुणे के तीसरे वनडे मैच में भारतीय टीम को हराकर वेस्‍टइंडीज की टीम ने अपनी क्षमता को अहसास करा दिया है. इस टीम ने यह अच्‍छी तरह से जता दिया है कि उसे कमजोर नहीं आंका जा सकता. आंखें खोल देने वाली इस हार से सबक लेते हुए अब विराट कोहली की टीम वेस्टइंडीज के खिलाफ चौथे वनडे मैच में जीत के मकसद से मैदान पर उतरी है. वेस्टइंडीज और भारत के खिलाफ पांच वनडे मैचों का यह चौथा मुकाबला मुंबई के ब्रेबोर्न स्‍टेडियम में खेला जा रहा है. पहले मैच में भारत ने जीत हासिल कर अच्छी शुरुआत की थी। इसके बाद विशाखापट्टनम में खेला गया दूसरा मैच टाई समाप्त हुआ था. वेस्टइंडीज ने अपने खेल को मजबूत कर तीसरे मैच में भारत को 43 रनों से हराकर इस सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली और इस दौरे पर पहली जीत हासिल की. मैच में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया है. टीम इंडिया ने प्‍लेइंग इलेवन में दो बदलाव किए हैं. ऋषभ पंत की जगह केदार जाधव को टीम में जगह दी गई है जबकि तेज गेंदबाज खलील अहमद की जगह रवींद्र जडेजा ने ली है.ऐसे में देखा जाए तो भारत को इस सीरीज में जीत के लिए अगले दोनो मैचों को अपने नाम करना होगा और इसके लिए उसे बल्लेबाजी के साथ-साथ अपनी गेंदबाजी में भी सुधार की जरूरत है. तीनों मैचों में भारत के लिए शतकीय पारी खेलने वाले कप्तान कोहली के अलावा, कोई भी बल्लेबाज खास कमाल नहीं कर पा रहा है. शिखर धवन ने शिखर धवन ने कोहली के बाद सबसे अधिक 35 रन बनाए थे. वेस्टइंडीज के खिलाफ कमजोर नजर आई भारतीय की टीम की बल्लेबाजी का नतीजा यह रहा कि वह मेहमान टीम की ओर से दिए गए 284 रनों के लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई और कप्तान की शतकीय पारी जाया चली गई. इस सीरीज में कोहली के अलावा टीम को अन्य खिलाड़ियों की बल्लेबाजी कमजोर नजर आ रही है और इसमें दिग्गज बल्लेबाज महेंद्र सिंह दोनी भी शामिल हैं. उन्होंने दो मैचों में कुल 27 रन बनाए हैं. बल्लेबाजी के साथ-साथ भारतीय टीम की गेंदबाजी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। पिछले तीन में से दो मैचों में मेजबान टीम ने 300 रन खाए हैं. अगले साल वनडे वर्ल्‍डकप की बात की जाए, तो अपने घर में ही वेस्टइंडीज जैसी अनुभवहीन टीम के खिलाफ खराब प्रदर्शन भारतीय टीम की फॉर्म पर प्रश्नचिन्ह लगाता है. ऐसे में टीम के चयनकर्ताओं की नींद पर उड़ गई होगी. एक मैच में मिली हार के बाद दूसरा मैच टाई करते हुए तीसरे मैच को अपने नाम करने के बाद मेहमान टीम का आत्मविश्वास मजबूत नजर आ रहा है. तीसरे मैच में उन्होंने यह साबित कर दिया है कि उनके बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों को बड़ी चुनौती देने की क्षमता रखते हैं. वेस्टइंडीज भी चौथे मैच में शाई होप, शिमरोन हेटमेर और जेसन होल्डर के अलावा, किरोन पवेल, चंद्रपाल हेमराज और रोवमेन पवेल का समर्थन लेकर जीत के इरादे से मैदान पर उतरेगी.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *