फ्रांस के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी को उत्तर कोरिया के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार
Please Share the Post

फ्रांस के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी बेनॉ क्वेनेडी को उत्तर कोरिया (North Korea) के लिए जासूसी करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है. न्यायिक सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. बता दें कि फ्रांस की संसद के ऊपरी सदन सीनेट के वरिष्ठ अधिकारी क्वेनेडी को रविवार को हिरासत में लिया गया. वह फ्रैंको-कोरियन फ्रेंडशिप एसोसिएशन के भी अध्यक्ष हैं. न्यायिक सूत्रों का कहना है कि उनके देश से बाहर जाने या सीनेट में काम करने पर रोक लगा दी गई है. क्वेनेडी को फिलहाल फ्रांस की घरेलू खुफिया एजेंसी डीजीएसआई के मुख्यालय में रखा गया है. क्वेनेडी के प्रकाशक की वेबसाइट डेल्गा के अनुसार उन्होंने कोरियाई प्रायद्वीप की काफी यात्रा की है. यूट्यूब पर अपलोड एक वीडियो में वह कोरिया को ‘विकास का मॉडल’ भी बताते हैं. वह 2007 से फ्रैंको-कोरियन फ्रेंडशिप एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं. इसका गठन 1960 में उन पत्रकारों ने किया था जो सामाजिक और वामपंथी ध्येय के प्रति सहानुभूति रखते थे. यह संगठन प्योंगयांग के साथ करीबी संबंध और विभाजित कोरिया के एकीकरण की बात करता है. बता दें कि जासूस की गिरफ्तारी का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले अमेरिका ने एक रूसी महिला को गिरफ्तार किया था. वॉशिंगटन में संघीय अभियोजकों के मुताबिक महिला अमेरिका में रह रही थी और रूस के एक वरिष्ठ अधिकारी की तरफ से गुप्त एजेंट की तरह काम कर रही थी. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात के कुछ ही घंटों बाद मारिया बुटिना की गिरफ्तारी की घोषणा की गई थी. कुछ दिन पहले विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मूलर ने रूस के 12 खुफिया अधिकारियों पर आरोप लगाया था कि उनके ही इशारों पर 2016 के चुनाव में गड़बड़ी के लिए हैकिंग के प्रयास किए गए थे.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *