नि:संतान दंपत्ति के जीवन में बच्चों का वरदान दे रहा रायगढ़ का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल अपेक्स
Please Share the Post

 टेस्टट्यूब बेबी के माध्यम से अपेक्स में हुआ जुड़वा बच्चों का जन्म

शहर के सुपर स्पेशलिटी अस्पताल अपेक्स में डॉक्टर रश्मि गोयल नि:संतान दंपतियों के जीवन में बच्चों का वरदान दे रही है । हाल ही में यहां दो ऐसे दंपतियों को माता और पिता बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उनके घर आंगन में जुड़वा बच्चों ने जन्म लिया है । जुड़वा बच्चों में एक लड़का और दूसरी लड़की है। उन दंपतियों ने अपने जीवन में इस नियति को स्वीकार कर लिया था कि अब उनके आंगन में उनके बच्चे की किलकारी नहीं गूंजेगी। लेकिन विज्ञान के इस युग में शायद अब कुछ भी असंभव जैसी चीज नहीं बची है ।और इसी का एक जीता जागता उदाहरण अपेक्स हॉस्पिटल में देखने को मिला। जहां दो अलग अलग दंपतियों को जुड़वा बच्चे प्राप्त हुए । और दोनों ही दम्पतियों के चारो बच्चे पूर्णत: स्वस्थ हैं।
इस संबंध में डॉ रश्मि गोयल ने बताया कि विज्ञान की आधुनिक तकनीक के जरिए दोनों दंपतियों का इलाज संभव हो सका है एक दंपति के मामले में जहां पुरुष मैं निल शुक्राणु थे ऐसी सिर में तकनीक के जरिए टेस्टिस से शुक्राणु निकाला गया और उसकी पत्नी के अंडाणु से उसे मिलाते हुए भू बनाया गया और उसकी पत्नी के गर्भाशय में उसे प्रत्यारोपित कर दिया गया जब वक्त आया तो उस महिला को जुड़वा बच्चों की प्राप्ति हुई। यह समय न केवल उन दंपति के जीवन में एक अनोखा पल रहा बल्कि डॉक्टर रश्मि गोयल एवं उनकी टीम को भी दम्पत्तियों की ख़ुशी व उन्हें माँ-पिता बने देखकर
काफी खुशी हुई ।
इसी प्रकार एक दूसरे मामले में महिला की उम्र ज्यादा होने और विवाह के 20 साल बाद भी संतान सुख नहीं मिल पाने के कारण अपेक्स अस्पताल में आईवीएफ पद्धति से उसका इलाज संभव हो सका, और उसे भी जुड़वा बच्चों की प्राप्ति हुई। ऐसे किसी भी मामले में पति पत्नी की पहचान को पूर्ण रूप से गुप्त रखा जाता है। इस लिहाज से हमारी बाध्यता है कि हम उन दंपतियों का नाम सार्वजनिक नहीं कर सकते । बहरहाल जिनके आंगन में किलकारियां गूंजने लगी हैं उन्होंने न केवल विज्ञान को बल्कि अपेक्स अस्पताल और डॉक्टर रश्मि अग्रवाल व मनोज अग्रवाल को दिल से दुआ दी है। अपेक्स अस्पताल के मुखिया डॉक्टर मनोज अग्रवाल ने बताया कि उनका अस्पताल मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल है । और यहां हर रोग का विशेषज्ञ चिकित्सकों के द्वारा इलाज किया जाता है। साथ ही निसंतान दंपतियों के लिए किसी भी दंपति को न तो निराश होने की जरूरत है ,और ना ही कहीं भटकने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि बेहतर इलाज की चाहत में निराश दंपति काफी दूर-दूर तक भटकते रहते हैं और ऐसे में उनका समय और रुपया दोनों बर्बाद होता है । जबकि हमारे शहर में ही विज्ञान की अत्याधुनिक तकनीक अपेक्स अस्पताल में मौजूद है। जहां उन दंपतियों को कम खर्चे में बेहतर नतीजे मिलते हैं । डॉक्टर रश्मि गोयल ने किरणदूत के माध्यम से इस बात को कहा है कि नि:संतान दंपति बिल्कुल भी निराश ना हों और वह एक बार जरूर उनसे संपर्क करें । ताकि उनके जीवन और उनके आंगन में किलकारी गूंज सके।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *