झूठे प्रलोभन व ईनाम का लालच देकर कर चलाया जा रहा है धंधा
Please Share the Post

 इंश्योरेंस के नाम पर लोगों को झूठे प्रलोभन देकर बेची जाती है बांड, अभिभावक हुए परेशान

ढिमरापुर रोड में संचालित एनएसबी कैपिटल द्वारा अपनी कंपनी से लोगों को जोडऩे के लिए लोगों को झूठे प्रलोभन, ईनाम का लालच देकर इंश्योरेंस कराने का धंधा चलाया जा रहा है। जिससे लोगों के न सिर्फ समय को बर्बाद किया जा रहा है, बल्कि उनकी भावना के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा है। वहीं कंपनी के इस पॉलिसी को लेकर जब यहां के मैनेजर से बात की गई तो उन्होंने ऐसी किसी बात से इंकार कर दिया. उन्होंने इसका सारा ठिकरा अपने कॉल सेंटर के कर्मियों के ऊपर मढ़ दिया।
लगभग एक साल पहले ढिमरापुर कार्मेल स्कूल के सामने एनएसबी कैपिटल की शुरूआत की गई थी, जो मुख्यत: ईश्योरेंस से जुड़े कार्य करती है। लेकिन इस कंपनी द्वारा ग्राहक बनाने के लिए ऐसे हथकंडे इस्तेमाल किए जा रहे हैं, जिसमें फंसने के बाद ग्राहक खुद को ठगा हुआ महसूस करता है। इंश्योरेंस के नाम पर लोगों को झूठे प्रलोभन, ईनाम जीतने का लालच देकर उन्हे कार्यालय बुलाया जाता है। शेष पेज ५ में
ड्रांईग का ईनाम लेने के लिए बुलाया
कंपनी के एजेंट शहर के मॉल, स्कूलों आदि जगहों पर खड़े होकर एक कूपन भरवाते हैं, जिसमें सिर्फ फोन नंबर और नाम लिखा होता है, जिसके बाद कंपनी की तरफ से फोन कर ईनाम जीतने का लालच दिया जाता है. गुरूवार को टीवी टावर रोड में रहनेवाले विजय नाम के व्यक्ति को कंपनी द्वारा फोन कर बताया गया कि उनकी बच्ची ने ड्राइंग प्रतियोगिता में ईनाम जीता है, वह इसके लिए उन्हें सर्टिफिकेट और ईनाम देना चाहते हैं, लेकिन जब वह कंपनी के दफ्तर पहुंचे तो वहां उन्हें कंपनी के बीमा पॉलिसी बेचने का प्रयास शुरू कर दिया गया. इसी तरह एक ग्राहक को फोन कर जानकारी दी गई कि उन्हें रेंडमली चयन क र उन्हें कंपनी की तरफ से एक टूर पैकेज जीतने का मौका मिला है, जब कार्यालय पहुंचे तो बताया गया कि पत्नी नहीं होने के कारण वह ईनाम जीतने के पात्र नहीं हैं। इस संबंध में गुरूद्रोण स्कूल के शिक्षक श्री देवता से पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि इसकी कोई जानकारी स्कूल में नहींदी गयी है।
मैनेजर ने कहा हमें जानकारी नहीं
मामले में जब एनएसबी कैपिटल की मैनेजर इदिरा बेसन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें इस तरह के लालच देकर ग्राहकों को ऑफिस बुलाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि वह अपने प्रबंधन से इस बारे में बात करेंगी। यह पूरी तरह से गलत है। बहरहाल, एक कंपनी के कर्मी मनमाने तरीके से लोगों को बेवकूफ बनाने का कार्य कर रहे हैं और मैनेजर को इसकी जानकारी नहीं होना चौकाने वाली बात है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *