थाना प्रभारी पर रिश्वत लेकर धमकाने का आरोप
Please Share the Post

 पीडि़त परिवार ने पुलिस कप्तान को बताई आपबीती
 पुलिस कप्तान ने दिया जांच का आश्वासन

शनिवार दोपहर एक ग्रामीण परिवार जिला पुलिस अधीक्षक के समक्ष न्याय की गुहार लेकर पहुंचा। पीडि़त परिवार का कहना था कि खरसिया थानेदार एवं एसआई पर उनके द्वारा किए गए प्रताडऩा और रिश्वत संबंधी शिकायत वापस लेने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है। पीडि़त को परिवार सहित झूठे मामले में फंसा कर जेल भेज दिए जाने की धमकी भी दी जा रही है। पूरा परिवार डर के साए में जी रहा है। उन्होंने बताया कि डर इतना की वे परिवार छोडकऱ खेत में काम के लिए जाने पर भी घबरा रहे हैं।
पूरा मामला खरसिया थाना क्षेत्र ग्राम सरवानी का है। पीडि़त विकास जयसवाल ने बताया कि उसके परिवार में माता-पिता के साथ दो बहने और एक बड़ा भाई है। उनके परिवार में उनके पिता के भाई के साथ जमीन संबंधी विवाद काफी दिनों से है। 10 अक्टूबर को दोनों परिवारों के बीच विवाद हुआ जिस पर खरसिया थाना पुलिस द्वारा उसके पिता और भाई को गांव से उठा कर थाने ले जाया गया। जहां एएसआई बंजारे द्वारा उसे उसके परिवार को धमका कर थाने में बैठाया गया। रात करीब 2:00 बजे उसे और उसकी बहन को छोड़ घर जाने दिया गया।
अगली सुबह जब वह थाने पहुंचा तब खरसिया थाना प्रभारी अभिनव कांत सिंह द्वारा उसे पुराने केस में जिला बदर करने की धमकी दी गई। पीडि़त से जब हमने पुराने केस के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उस पर परिवार के जमीन संबंधी विवाद पर एक केस दर्ज है। एएसआई बंजारे द्वारा उसके पिता और भाई को छोडऩे की एवज में दस हजार रूपये की डिमांड की गई पीडि़त ने दस हजार रूपये की व्यवस्था कर दे भी दी। एएसआई बंजारे द्वारा पीडि़त को कहा गया कि कोई बड़ा केस नहीं बना रहे हैं ऐसे ही छोड़ देंगे तो गांव वालों को शक होगा इसलिए छोटी कार्यवाही करके छोड़ रहे हैं। पैसे लेने के बाद उसके पिता और भाई को 151 शांति भंग की धारा में जेल भेज दिया गया। इसके कुछ दिन बाद फिर से उनका पारिवारिक विवाद हुआ। जिस पर उसकी बहन ने थाने में रिपोर्ट करने गई लेकिन इस बार मामला 155 का बताकर न्यायालय की शरण देने जाने की सलाह दी गई।
पीडि़त विकास जयसवाल और उसकी बहन ने 15 अक्टूबर को खरसिया थाना प्रभारी अभिनव कात सिंह और एएसआई बंजारे के खिलाफ पुलिस अनुविभागीय अधिकारी से रिश्वतखोरी और झूठे केस में फंसा कर डराने धमकाने की लिखित शिकायत की।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *