घटिया सड़क निर्माण को लेकर भड़के ग्रामीण और काम कराया बंद
Please Share the Post

सोंठी सबरिया डेरा में बन रही थी सीएमजीएसवाय की सड़क
जांजगीर-चांपा। मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बम्हनीडीह ब्लॉक के ग्राम पंचायत सोंठी में सड़क निर्माण चल रहा है। जिसमें गुणवत्ता का बिलकुल ध्यान नहीं रखा जा रहा। घटिया सड़क निर्माण को लेकर ग्रामीण भड़क गए और काम बंद करा दिया। इधर जिम्मेदार अधिकारी घटिया सड़क निर्माण को लेकर ध्यान नहीं दे रहे हैं।
जिसके चलते ठेकेदार मनमर्जी से घटिया सड़क निर्माण कार्य करवा रहा है। जिसे लेकर ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। सोठी में इन दिनों मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 2 करोड़ 27 लाख की लागत से सड़क निर्माण किया जा रहा है। यह सड़क सोंठी से धनुहार डेरा तक लगभग 5 किलोमीटर की सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया गया था। काम की क्वालिटी को देखकर ग्रामीणों ने ठेकेदार व इंजीनियर के ऊपर घोर लापरवाही एवं घटिया मटेरियल का उपयोग करने का आरोप लगाया है।
ग्रामीणों का कहना है की ठेकेदार द्वारा पहले तो मन मुताबिक घटिया क्वालिटी का मिट्टी डाल दिया गया। जिस पर कीसी भी अधिकारी का ध्यान नहीं गया और अब डस्ट व चिल्फी युक्त निम्न क्वालिटी का गिट्टी डालकर सड़क का निर्माण कराया रहा है। जिसमे इंजीनियर पुर्ण रूप से ठेकेदार के घटिया निर्माण करने में सहयोग
कर रहा है।
ग्रामीणों ने कराया कार्य बंद
जिन ग्रामीणों को इस सड़क का उपयोग करना है उन्हें जब सड़क निर्माण कार्य में लाए जा रहे सामाग्री को देखा तो चौक गए और सड़क का निर्माण कार्य बंद करा दिया। काम करीब एक सप्ताह से बंद है। जब काम बंद होने कि जानकारी सड़क ठेकेदार और सब इंजीनियर वासु पोर्ते को हुई तो निर्माण स्थल पहुंच गए। ठेकेदार और सब इंजीनियर को देख ग्रामीणों की भीड़ लग गई और ग्रामीण सड़क निर्माण कार्य मे भ्रष्टाचार का विरोध करने लगे। तब सब इंजीनियर उन्हें सड़क निर्माण कार्य की नियम कानून बताने लगे। जब ग्रामीणों ने सामग्री की जांच करने को कहा तो सब इंजीनियर की देख रेख में चल रहे सड़क निर्माण कार्य की भ्रष्टाचार की पोल खुल गई।
जन प्रतिनिधि के मिली भगत का आरोप
ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि सड़क ठेकेदार से क्षेत्र के कुछ छोटे मोटे जन प्रतिनिधि भी मिली भगत कर सड़क निर्माण कार्य में जमकर भ्रष्टाचार कर रहे हंै जिससे सड़क कुछ ही महीनों में खराब हो सकती है पर इन सब से क्षेत्र के जन प्रतिनिधि को कोई सरोकार नहीं है उन्हें तो केवल अपनी जेब भरने से मतलब है। क्षेत्र के विकास से
मतलब नहीं है।
इस तरह हुआ भ्रष्टाचार का खुलासा
ग्रामीणों ने नियम कानून का हवाला देते हुए सड़क पर बिछाई गई सीमेंट, गिट्टी, मुरूम व डस्ट को चलनी में चालकर तीनों सामान के रेशियो का पता लगाया तो अधिकारियों की कारगुजारियों की पोल खुल गया। जांच के दौरान पता चला कि तय मानकों के अनुपात में सीमेंट, गिट्टी, मुरूम व डस्ट नहीं था। जिससे ग्रामीण भड़क गए और काम बंद करा दिया। मौके पर लोगों की भीड़ जुट गई और अधिकारी ठेकेदार को ग्रामीणों ने चलता कर दिया।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *