भारतीय फुटबॉल टीम को एएफसी एशियन कप के अपने पहले मैच में हार का सामना करना पड़ा
Please Share the Post

सुनील छेत्री की भारतीय फुटबॉल टीम को एएफसी एशियन कप के अपने पहले मैच में हार का सामना करना पड़ा है. अपने प्रारंभिक मुकाबले में थाईलैंड के खिलाफ 4-1 से जोरदार जीत दर्ज करने वाली भारतीय फुटबॉल टीम को यहां ग्रुप-ए के दूसरे मुकाबले में गुरुवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के खिलाफ 0-2 से हार झेलनी पड़ी. यूएई इस जीत के बाद चार अंकों के साथ पहले पायदान पर पहुंच गया है. दूसरी ओर, थाईलैंड और भारत के तीन-तीन अंक हैं लेकिन गोल अंतर के आधार पर भारतीय टीम दूसरे स्थान पर है. इस लिहाज से टूर्नामेंट के नॉकआउट स्तर पर पहुंचने की उसकी उम्मीदें बरकरार हैं. टूर्नामेंट के एक अन्‍य मुकाबले में थाईलैंड ने बहरीन को 1-0 से मात दी थी. बहरीन एक अंक के साथ आखिरी पायदान पर मौजूद है टूर्नामेंट के एक अन्‍य मुकाबले में थाईलैंड ने बहरीन को 1-0 से मात दी थी. बहरीन एक अंक के साथ आखिरी पायदान पर मौजूद है. भारत के खिलाफ मैच में यूएई के लिए खल्फान मुबारक अल शम्सी और अली अहमद मबखौत ने गोल दागे. जायेद स्पोर्ट्स सिटी में घरेलू दर्शकों के सामने मेजबान यूएई की शुरुआत शानदार रही. यूएई ने गेंद को अपने नियंत्रण में रखते हुए अटैक किया और दूसरे मिनट में ही भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू को 18 गज के बॉक्स के अंदर बचाव करना पड़ा. भारतीय टीम यूएई द्वारा किए गए शुरुआती आक्रमण से जल्द ही उबरने में कामयाब रही और सातवें मिनट में पहला अटैक किया. राइटबैक प्रीतम कोटाल ने मेजबान टीम के बॉक्स में बेहतरीन खेल दिखाया और मैच का पहला कॉर्नर अर्जित किया। हालांकि, डिफेंडर संदेश झिंगन हेडर के जरिए गेंद को गोल में नहीं डाल पाए. मैच के 11वें मिनट में भारत ने एक बार फिर अटैक किया. इस बार कप्तान छेत्री ने अपनी बायीं ओर फारवर्ड खिलाड़ी अशिक कुरुनियान को पास दिया लेकिन यूएई के गोलकीपर खालिद ईसा ने शानदार बचाव करते हुए मेजबान टीम को मैच में पिछड़ने नहीं दिया. ईसा ने 23वें मिनट में एक बार फिर शानदार बचाव किया. इस बार उन्होंने छेत्री के हेडर को गोल में जाने से रोक दिया. भारत ने अपना अटैंकिंग खेल जारी रखा लेकिन पहला हाफ समाप्त होने से पहले मेजबान टीम बढ़त बनाने में कमयाब रही. 42वें मिनट में शम्सी ने बॉक्स के अंदर से शानदार गोल करते हुए स्कोर 1-0 कर दिया. राष्ट्रीय टीम के लिए शम्सी का यह पहला गोल है.कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने दूसरे हाफ में एक बदलाव किया और हालीचरण नारजारे की जगह पिछले मैच में गोल करने वाले स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुआ को मैदान पर लेकर आए. जेजे ने कोच के भरोसे को सही साबित किया और 53वें बॉक्स के बाहर से शानदार प्रयास किया. इसके दो मिनट बाद, बॉक्स में दाईं ओर से विंगर उदांता सिंह ने गोल करने का बेहतरीन प्रयास किया लेकिन गेंद पोस्ट पर लगकर बॉक्स के बाहर चली गई. भारत को भले ही गोल करने के अधिक मौके मिले लेकिन फीफा रैंकिंग में 79वें स्थान पर मौजूद यूएई ने अधिक बॉल पाजेशन रखा. 75वें मिनट में अल हम्मादी ने बॉक्स के अंदर से गोल करने की कोशिश की और गेंद कोटाल के पांव से लगकर पोस्ट पर लगी लेकिन संधू उसे पकड़ने में कामयाब नहीं हो पाए. हालांकि, वह भाग्यशाली रहे कि गेंद गोल में नहीं गई. मैच के अंतिम क्षणों में भारतीय टीम ने बराबरी का गोल करने का प्रयास किया लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाई. 88वें मिनट में मबखौत ने गोल करके मेजबान टीम की जीत सुनिश्चित कर दी. भारतीय टीम ग्रुप स्तर का अपना आखिरी मैच बहरीन के खिलाफ सोमवार को खेलेगी.

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *