खनिज विभाग, राजस्व विभाग की मिली भगत से रेत माफियाओं का बोलबाला
Please Share the Post

शिकायत के बावजूद नही होता कार्यवाही

आज पूरे तराई क्षेत्र में जितनी भी नदिया है चाहे वो बड़ी हो या छोटी सभी नदियों में रेत माफियाओं द्वारा जम कर रेत का उत्खनन जोरो किया जा रहा है जहां पर न तो खनिज अपना शिकंजा कसता,न हीं राजस्व विभाग, ऐसा लगता है कि दोनों के मिली भगत से ये सब काम होता रहा है उपरोक्त संबंध में देहजरी सरपंच विजय राठिया,पामगढ़ लिलाधर राठिया सरपंच द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व खरसिया को लिखित शिकायत देने के उपरांत भी इस मामले में प्रशासन मौन क्यों? आज के समय में देखा जाय तो खरसिया से कुछ ही दूर पर मांड नदी व कुरकुट नदी से प्रतिदिन दिन रात अवैध रेत निकाला जाता है जिसका परिवहन ट्रैक्टर व् डंफर द्वारा
दिन-रात किया जा रहा है। वो भी प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी नाक के नीचे से।
विरोध करने वालों से की जाता है धमकी
खनिज और राजस्व विभाग इस मामले में कोई कार्यवाही क्यों नही करता इससे साबित होता है कि रेत माफियाओं के दबाव में खनिज व् राजस्व विभाग निष्क्रिय हो गया है खनिज विभाग महीने में एक बार आते है और बिना कार्यवाही किये ही चले जाते है जिसे क्या कहा जा सकता है वही लोगो का कहना है कि आज रेत की अवैध निकासी से गरीब व किसानों को ऊंचे दामो पर रेत लेने को मजबूर होना पड़ रहा है यदि किसी ने इनके खिलाफ विरोध किया तो उसके साथ मारपीट किया जाता है और रिपोर्ट होने पर कोई ठोस कार्यवाही भी नही की जाता है।
प्रशासन असहाय
आज चाहे ऐंडु पुल के पास हो या पामगढ़ मांण्ड नदी पूरे क्षेत्र में रेत माफियाओं का बोल बाला है जबकि लोगो का कहना है कि इस काम में स्थानीय छुटभैयों का हाथ है इसी कारण कोई भी कार्यवाही भी नही की जाता है जबकि कुछ माह पहले खरसिया पुलिस द्वारा रेत से लेकर अपना शिकंजा कसा था जिसके कारण सभी लोगो में दहशत व्याप्त था लेकिन आज पूरा प्रशासन असहाय हो गया है कारण कुछ भी हो लेकिन क्षेत्र की जनता सब जानता है कि रेत माफियाओं और खनिज प्रशासन के मध्य पक रहा खिचड़ी।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *