कुसमुरा में स्व सहायता समूहों का सम्मेलन सम्पन्न
Please Share the Post

पांच हजार से अधिक महिलाएं हुई शामिल

रायगढ़ जिला पश्चिम अंचल के स्व सहायता समूहों का संगठन नारी एकता संकुल संगठन का द्वितीय वार्षिक अधिवेशन ग्राम कुसमरा के आदर्श विद्या मंदिर प्रांगण में 10 जनवरी को संपन्न हुआ, जिसमें कुसमुरा महिला संकुल क्षेत्र के 33 गांव से 402 महिला स्व सहायता समूह से जुड़े 4408 महिलाओं की सहभागिता रही वहीं आस पास से महिलाओं की उपस्थिति हजारों की संख्या में रही ।
उक्त आयोजन नारी एकता संकुल संगठन कुसमरा एवं बीएलएफ के अध्यक्ष कमला पटेल , सचिव द्रोपति साहू, कोषाध्यक्ष जानकी यादव कोऑर्डिनेटर मेनका सिदार सरस्वती पटेल, तथा गांव पंचायत कुसमुरा सरपंच शेषचरण चौधरी प्रदान संस्था के विजैनी जैना सुजीत दा के साथ समस्त कर्मचारियों के विशेष समर्पण व सहयोग से संपन्न हुआ । आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि नमोनारायण पटेल एवं सरपंच शेषचरण चौधरी कुसमुरा, तारिणी प्रसाद पटेल उपसरपंच उसरौट , जोरापाली के सरपंच लच्छीराम उरांव, चूड़ामणि चौधरी बनसियां विशेष रूप से उपस्थित थे वहीं इस आयोजन में जिला पंचायत रायगढ़ से सहायक परियोजना अधिकारी वीरेंद्र सिंह राय, एन.आर.एल.एम.कपिल कश्यप की भी उपस्थिति रही ।
जनपद पंचायत रायगढ़ से रौशनी दुबे एडीओ सनत नायक जिंदल संस्था से रश्मि मेम, प्रणय,वन्दन अर्चना लाल की विशेष भूमिका के साथ प्रदान संस्था के विजयिनी जैना ,नीलिमा सुप्रिया, सत्या , पिंटू , सुरजीत दीपेश, तुलसी, अशोक की सहभागिता रही विशेष सहयोगी के रूप में भरथरी चौहान उसरौट सुधा पटेल तारापुर की सक्रिय भागीदारी सही मंच संचालन का कार्य अनिता पटेल एवं पार्वती पटेल ने संपादित किया तथा ग्राम पंचायत की सरपंच शेषचरण चौधरी की आयोजन में विशेष रुप से सहयोग दिया । आयोजकों की ओर से सभी उपस्थित महिलाओं के लिए भोजन की व्यवस्था की गई थी ।
नारी शक्ति की महिमा का किया गया बखान :
महिला संकुल संगठन के द्वितीय वार्षिक अधिवेशन में वक्ताओ द्वारा नारी शक्ति का का गुणगान किया गया वहीं विशेष रुप से आमंत्रित प्रवक्ता व्याख्याता भोजराम पटेल द्वारा नारीशक्ति व महिलाओं के विशेष दक्षता के साथ बेटियों की महत्ता पर केंद्रित ओजस्वी एवं काव्यमयी उद्बोधन से महिलाओं को विशेष रुप से प्रभावित किया गया ।
झूमती रही महिलाएं और बेटियां :
अलग-अलग क्षेत्रों से आए हुए महिलाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की दौरान छत्तीसगढ़ के लोक नृत्य कर्मा, सुवा, राउत नाचा, ओडिय़ा नाच डांडिया ,एवं बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ विषय पर नाटक की प्रस्तुति दी गयी जिस पर उपस्थित महिलाएं झूमने को विवश हो कर स्वयं भी थिरकते नाचते में मगन हो रही थी ।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *