शिवपार्वती विवाह का अद्भुत नजारा झांकी के माध्यम से भक्तों को दिखाया
Please Share the Post

नगर की धन्य धरा पर चार दिवसीय श्याम गुणगांन महोत्सव 11 से 14 जनवरी को बडी धूमधाम से मनाया जा रहा है। श्याम गुणगांन महोत्सव में 11 से 14 जनवरी को चार दिवसीय कृष्ण सुदामा चरित्र, शिव पार्वती विवाह, नानी बाई का मायरा, निशान यात्रा, भव्य भंडारा एवं रात्रि में भजनों एवं नृत्य नाटिकाओं के माध्यम से जिवंत झाकियों का कार्यक्रम रखा गया है जिसमें देश के जाने माने भजन सम्राटों का आगमन खरसिया में हो रहा है ।
श्याम कुटुम्ब के संस्थापक मुकेश मित्तल ने बताया कि श्याम कुटुम्ब विगत कई वर्षो से श्याम गुणगान महोत्सव बड़ी धुम धाम से मनाते आ रहा है, बाबा श्याम के विशेष आशीर्वाद से बाबा श्याम का भव्य मंदिर का निर्माण सात वर्ष पूर्व नगर वासियों एवं अंचल के श्याम प्रेमियों के सहयोग से निर्माण हुआ था । 15 वॉं श्याम गुणगान महोत्सव धुम धाम से मनाया जावेगा । नगर के श्याम कुटुम्ब के सदस्यों द्वारा श्याम महोत्सव को भव्यता प्रदान करने की तैयारी जोरो से की गयी है । श्याम कुटुम्ब द्वारा 12 जनवरी को द्वितीय दिवसीय शिव पार्वती विवाह की जिवंत झाकियो का वर्णन किया गयाा । गुणगान महोत्सव के द्वितीय दिन बाबा का भव्य दरबार बनाकर बाबा श्याम की पं. अमित शर्मा द्वारा विधि विधान से पूजन के पश्चात मुख्य जजमान पूनमचंद अग्रवाल एवं रमेश अग्रवाल वकील द्वारा बाबा की ज्योति प्रज्जवलित कर आरती करने के पश्चात कलकत्ता से पधारे विनोद गुप्ता द्वारा अपनी कलाकार टिम के साथ जिवंत झाकियों का वर्णन करते हुए भगवान शंकर एवं पार्वती के विवाह जिवंत झाकियों के रूप में दक्ष पुत्री सती जो भगवान शिव प्रथम पत्नि के अग्नि कुंड में अपने को समाहित करने के पश्चात जगदम्बा का पून: जन्म हीमचल राजा के घर में होता है और देवर्षी नारद के सुचना पर हीमचल और मैना देवी की पुत्री पार्वती का विवाह शिव के साथ झाकियों के माध्यम से भक्तों के बीच में दिखाया गया । जिसमें बाराती ब्रम्हा विष्णु शिवगण भूत प्रेत आदि शामिल होते है । अनेक बाधाओं के पश्चात भी भगवान शिव और पार्वती का विवाह का सम्पन्न होता है । शिव पार्वती विवाह में खरसिया के भक्त गण भी भगवान शंकर की बारात में भूम प्रेत की झांकी के रूप में शामिल होकर भगवान शंकर एवं पार्वती के विवाह का आनंद उठाया । रात्रि 7 बजे शिव पार्वती विवाह के विश्राम के प्श्चाज आरती कर सभी भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया । बाबा श्याम का अद्भुत श्रृंगार सांवरे बाबा श्यामक े रूप् में दिल्ली से पधारे पण्डित दिक्षीत द्वारा चॉकलेट के माध्यम से बाबा का विशेष श्रंृंगार किया गया । बाबा के भव्य श्रृंगार को भक्त अपने नैनो से दर्शन करते नजर आयें । उत्सव स्थल के साथ साथ बाबा का अद्भुत श्रृंगार रायगढ़ से पधारे पांचाल द्वारा थर्माकोल से श्याम बिहारी मंदिर में अनोखा श्रृंगार कर एवं मंदिर के पुजारी बलदेव एवं उनके साथी द्वारा फलों से ऐसा मनमोहक श्रृंगार किया कि भक्तों का मन बाबा के दर्शन करने के लिये श्याम बिहारी मंदिर की ओर खिचा चला आ रहा है । 15 वॉं श्याम गुणगान महोत्सव को भव्यता प्रदान करने में श्याम कुटुम्ब के संस्थापक मुकेश मित्तल, अध्यक्ष विजय अग्रवाल संरक्षक सत्यनारायण अग्रवाल, विनोद शर्मा, उपाध्यक्ष कैलाश सपना, लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, बजरंग अग्रवाल, मनोज कबुलपुरिया, कोषाध्यक्ष पूनम अग्रवाल, कार्यालय मंत्री हरिश शर्मा, शंकर अग्रवाल, सह सहचिव रमेश अग्रवाल, राजेश बंसल, सह कोषाध्यक्ष विनोद ए.आर., सचिन पण्डा, मनोज एरन, कन्हैया शर्मा, संजय एसआर.एम., मनोज गर्ग, कैलाश प्रेस, निकुंज अग्रवाल, रामभरोस अग्रवाल, संदीप बरेलिया, अरूण बंसल आदि सदस्य लगे हुए है ।
आज तृतीय दिवस नानी बाई का मायरा का होगा वर्णन
श्याम गुणगान महोत्सव के तृतीय दिन 13 जनवरी को शाम 04 बजे से 07 बजे तक नानी बाई का मायरा नरसिंह का भात जिवंत झाकियो के रूप में भगवान कृष्ण के परम भक्त जिन्होने अपनी आखों से भगवान कृष्ण का महारास देखा था विनोद मदिरा ग्रुप द्वारा भक्तों का उत्साह देखते हुए प्रथम बार खरसिया नगर में 112 भक्त द्वारा 112 करोड़ रूपये का भात भरा जाने वाला है जो के अपने आप में नरसिंह के भात का कार्यक्रम को भव्यता प्रदान करेगा । जिन्हे भगवान कृष्ण ने खड़ताल देकर कहा था कि जब उन्हे जरूरत हो तो खड़ताल बजाने पर भगवान स्वयं आ जायेंगे । उक्त लीला का जिवंत झाकियों के द्वारा वर्णन करते हुए नरसिंह मेहता एवं नानीबाई की एकमात्र पुत्री सुलक्षणा बाई के विवाह में भात भरने के लिये भक्त की पुकार पर भगवान कृष्ण नानीबाई के भाई के रूप में करोडो का भात भरते हुए झाकियों के माध्यम से दिखाया जावेगा ।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *