गोढ़ी में केशला पाठ त्रिशला पूजन सम्पन्न
Please Share the Post

केलो कोयलांचल आदिवासी बाहुल्य जनपद तमनार के ग्राम गोढ़ी स्थित केशला पाठ में महा त्रिशला पूजन का आयोजन 12 जनवरी शनिवार को प्रात: 8 बजे से हजारो श्रद्धालुभक्तजन शामिल हुए।मनोकामना पूर्ण हो चुके भक्तोजनो द्वारा बकरा एवं नारियल केशला पाठ में महा त्रिशला पूजन में अर्पित की गई।केशला पाठ की मान्यता है कि कोई भी चोरी,गुम हो जाने पर प्राप्त हो जाती है।बाल बच्चे,घर की सुख समृद्धि हेतु मनोकामना की जाती है। मनोकामना पूर्ण होने पर केशला पाठ में अर्पण की जाती है।महा त्रिशला पूजन में मनोकामना हेतु लगभग 500 बकरे दी गई।केशला पाठ पूजन में 15 हजार लोग शामिल होकर शांतिपूर्वक पूजा अर्चना कर भोजन महाप्रसाद ग्रहण किये।बैगा गणेश, जगत परिवार एवं समस्त ग्रामवासियो द्वारा पार्किंग पूजन,महाप्रसाद की सुव्यवस्था की जाती है।पुजारी चंद्रभानसिंह ने बताया कि हमारे पूर्वजों के देवता केशला पाठ के कारण ही गांव अंचल में सुख समृद्धि हुई है।यहाँ जो भी मनोकामना मांगी जाती है ओ मनोकामना अवश्य ही पूरा होती है।केशला पाठ में हर शनिवार को बकरे की बलि दी जाती है।विशेषकर हर तीन साल में महा त्रिशला मनाया जाता है।त्रिशला के बाद छह माह बन्द रहती है। सैकड़ो साल से पूजा पाठ की परंपरा हजारों की संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंच कर केशला पाठ के चरणो में मत्था टेककर आर्शीवाद लेते है। गौंड समाज के देव आज भी अपने चैतन्य रूप में विराजित हैं और केशला पाठ समय-समय पर अपने भक्तों को अपनी शक्ति से अवगत कराते है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *