यह कुबेर नगरी है…यहां कड़क से कड़क वर्दी का भी ईमान डोल जाता है
Please Share the Post

खरसिया के सावित्री सदन में दो दिन पहले रात के १० बजे कथित रूप से जो नापाक धंधा चल रहा था, उस पर पुलिस ने भी कथित पर्दा डाल दिया है। जो बातें सामने आ रही हैं वह पुलिस की छवि को उजला नहीं बनाती हैं। इसलिए पुलिस को इस मामले में जांज पड़ताल तो करनी ही चाहिए कि आखिर उस रात वहंा क्या हो रहा था। कौन-कौन लोग वहंा एक महिला के साथ क्या कर रहे थे। सावित्री सदन का मेन गेट खुलवाने में पुलिस केा आधे घण्टे क्यों लगे। और जब अंदर गए तो महिला तखत के अंदर क्यों छिपी हुई थी। कमरे में और सावित्री सदन के कैम्पस से मीडिया को क्यों बाहर रखा गया। आखिर सावित्री सदन में घण्टे भर क्या खिचड़ी पकती रही। पुलिस ने जिस महिला को वहां पकड़ा था उसके मोबाईल से किन लोगों से चर्चा कराई गई और क्या बातें हुईं। जिनकी रिकार्डिंग भी पुलिस ने की। और फिर उस रिकार्डिंग का क्या हुआ। महिला के परिजनों को चौकी में न बुलाकर उनके सुपुर्द देने के बजाए उसके घर में छोडऩे के पीछे क्या कारण था।
खरसिया में यहां भी हो रहा देह का धंधा
कुबेर नगरी खरसिया में किसी जीज की कमी नहीं है। इसलिए बुराईयों और अवैध धंधों की भी भरमार है। भले ही अवैध धंधों की रोकथाम करने वालों को यहां कुछ भी न दिखाई देता हो। बताया जाता है कि एक स्कूल के पास ही स्थित लॉज मजदूर पारा में स्थित एक अन्य लॉज, मंदिर के सामने फार्म हाऊस सहित सहित शहर के बाहर स्थित कुछ फार्म हाऊस में देह व्यापार धड़ल्ले से हो रहा है।

सावित्री सदन के मालिक से क्यों नहीं कर रहे पूछताछ
पुलिस की ओर से इस मामले को बेहद ही गैरजिम्मेदाराना तरीके से निपटा दिया है। इतना कुछ होते हुए भी पुलिस ने सावित्री सदन के मालिक आशीष से इस पूरे मामले की पूछताछ क्यों नहीं की जा रही है। आखिर उसके यहां एक महिला रात के १० बजे क्या कर रही थी। चौकीदार का भी यही कहना है कि आशीष ने ही उस महिला को बुलवाया था। महिला के पास कई लोग थे। वो उन्हें वहां से जाने के लिए कह रहा था। फिर पुलिस को इस मामले में जांच की आवश्यकता क्यों नहीं लग रही है।
ये घंसू कौन है जिसकी खूब चर्चा है
इस पूरे मामले में घंसू का नाम चर्चा में है। बताया जा रहा है कि घंसू ही इस पूरे मामले का प्रमुख सूत्रधार है। उसकी ओर से ही यहां ऐसे कार्य किए जाते हैं। पहले भी ऐसी बातें यहां कही सुनी जाती थीं। लेकिन इस मामले में उसकी भूमिका बड़ी है। पुलिस को इस बात की और घंसू के रिपोर्ट कार्ड की पूरी जानकारी है। लेकिन हमें नहीं है। बस हम तो यह जानना चाहते हैं कि यह घंसू कहां का है…और इस काम के अलावा और भी क्या करता है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *