रेलवे विभाग द्वारा चांपा ओवरब्रिज के निर्माण के मानमानी के खिलाफ नगरवासियों ने खोला मोर्चा
Please Share the Post

जिले में चाम्पा नगर के लोगों ने आज रेलवे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया चांपा नगरवासियों ने इस दौरान नगाड़ा बजाकर चांपा रेलवे स्टेशन में प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि चाम्पा-बिर्रा मार्ग पर स्थित रेल समपार पर 6 सालों से निर्माणाधीन आरओबी की वजह से चाम्पा नगर का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। निर्माण कार्य की वजह से पिछले 1 साल से चांपा बिर्रा समपार बंद है समपार के दोनों ओर चाम्पा नगर के सैकड़ों लोग निवास करते हैं जिन्हें आवागमन में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है महज 100 मीटर की दूरी तय करने के लिए उन्हें 3 से 5 किलोमीटर का अनावश्यक सफर करना पड़ता है।

चांपा में निर्माण हो रहे आरओबी के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने नगाड़ा बाजा कर विरोध

चाम्पा बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अजय बंसल ने बताया कि आज चांपा में जेल जैसी स्थिति हो गई है रेलवे विभाग द्वारा ओवरब्रिज के निर्माण को गति देने के लिए जिस तरह से बिर्रा फाटक को बंद किया गया एवं ट्रैफिक को जिला प्रशासन द्वारा डायवर्ट किया गया और साल भर के अंदर निर्माण कार्य कछुए की गति से चल रही है सारी समस्याओं का जड़ यहीं पर है किसी राजनीतिक पार्टी द्वारा इस समस्या को समाधान करने के लिए कभी भी गंभीर प्रयास नहीं किए गए
बिना किसी पूर्व व्यवस्था के जिस तरह से बिर्रा फाटक को बंद कर दिया गया वह सर्वथा नियम के विरुद्ध है फाटक के उस पार रहने वाली करीब 3000 की जनसंख्या आज की तारीख में अपनी जीवन उपयोगी सामान लेने के लिए मात्र 100 मीटर की दूरी की जगह 6 किलोमीटर का रास्ता तय कर रही है सालों से आवागमन को सुलाभ बनाने वाली बिर्रा फाटक को जिस तरह से अचानक बंद कर दिया गया है और नियमों को ताक में रख दिया गया है यह प्रशासन की उदासीनता को दिखाता है। इसीलिए अब व्यापारियों द्वारा आमजन के सहयोग से इस बदहाली के खिलाफ क्रमिक और उग्र आंदोलन
किया जाएगा।
अन्य समस्या धरी की धरी
चांपा बचाओ संघर्ष समिति और चेंबर आफ कामर्स चांपा के बैनर तले आयोजित नगाड़ा बजाकर प्रशासन को जगाने जिस तरह लोग सड़क पर उतरे, वैसा ही नजारा यदि शहर की अन्य गंभीर समस्या को लेकर दिखे तो चांपा की सभी समस्या दूर हो जाएगी। लोगों का कहना है कि आज के आंदोलन में कांग्रेसियों की संख्या ज्यादा थी। नगरपालिका चांपा में कांग्रेस की सरकार है और चांपा की अन्य समस्या गौरवपथ, रामबांधा तालाब आदि है। लेकिन इन समस्याओं को लेकर लोग सामने नहीं आते। वहीं विपक्ष को तो शहर के लोगों की समस्या से कोई सरोकार ही नहीं है।

ये है तीन सूत्रीय मांगे
चांपा बचाओ संघर्ष समिति और चेंबर आफ कामर्स चांपा की तीन सूत्रीय मांगों में ओवरब्रिज का मिर्नाण कब तक पूरा होगा। संभावित तिथि बताने की मांग की गई, जिस पर एडीआरएम अमोल मंत्री ने 31 मई 2020 तक ब्रिज का निर्माण पूरा हो जाने का भरोसा दिलाया। इसी तरह पैदल यात्रियों के लिए बंद बिर्रा फाटक को खोलने और रेलवे परिक्षेत्र की जर्जर सड़क की दशा सुधारने की मांग की गई। इस पर एडीआरएम ने सकारात्मक आश्वासन दिया।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *