नहीं माना हाईकोर्ट का स्टे आदेश, डायरेक्टरों ने बेची 135 करोड़ की संपत्ति
Please Share the Post

नवभारत एक्सप्लोजिव एवं फ्यूज के डायरेक्टर हाईकोर्ट के आदेशों को नजरअंदाज कर स्टे के बाद भी करोड़ों की संपत्ति लगातार बेच रहे हैं। रजिस्ट्री हुई कुछ जमीन के रिकार्ड मिले हैं। जानकारी के मुताबिक नागपुर निवासी सुनील सरावगी ने जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में आरोप लगाया है कि नवभारत एक्सप्लोजिव एवं फ्यूज के डायरेक्टर वीके सिंह, नीना सिंह, विशाल सिंह, गीता सिंह व अन्य के खिलाफ हाईकोर्ट में केस दाखिल है। इनकी उरला में बारूद पैक करने की पेटी व प्लास्टिक ट्यूब बनाने की फैक्टरी थी। वर्ष 2008-9 से ही प्रबंधकों की नीयत खराब हो गई। भुगतान रोकने से सप्लाई रोक दी गई तब उनके आदमियों ने फैक्टरी में धावा बोलकर जबरिया माल उठाने की कोशिश की। पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तारी की थी। दोनों कंपनियों के खिलाफ बाइंडिंग अप का केस भी दाखिल किया गया। सुनवाई के दौरान बिलासपुर हाईकोर्ट ने 24 मार्च 2017 को कंपनी की सभी संपत्ति को बेचने व थर्ड पार्टी राइट्स कराने पर रोक लगा दी थी। लेकिन स्टे के बाद भी नवभारत स्पंज आयरन प्लांट को 65 करोड़, जमीन को 40 करोड़, नवभारत डेवेलिंग्स कंपनी की जमीन 20 करोड़ और व्यक्तिगत नाम से 10 करोड़ को मिलाकर 135 करोड़ की संपत्ति बेची चा चुकी है। सुनील सरावगी ने इसकी जानकारी मिलने पर हाईकोर्ट में अवमानना का केस दाखिल किया है

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *