राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत होगें जिले में विविध कार्यक्रम

राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत होगें जिले में विविध कार्यक्रम

पोषण माह के आयोजन हेतु 1 से 30 सितम्बर तक के कार्यक्रम का विस्तृत कैलेण्डर जारी

कवर्धा, 01 सितंबर 2021। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कुपोषण के स्तर में उल्लेखनीय कमी लाने के उद्देश्य से वर्ष 2018 से पोषण अभियान का संचालन किया जा रहा है। पोषण अभियान में व्यवहार परिवर्तन एवं संप्रेषण को एक प्रमुख घटक रखा गया है। समुदाय तक पहुंच बढ़ाने तथा व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए जन आंदोलन के रूप में प्रतिवर्ष राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष भी पोषण अभियान अंतर्गत सितम्बर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। राष्ट्रीय पोषण माह 2021 के लिए 4 मुख्य थीम अनुसार गतिविधियां की जानी है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री आनंद तिवारी ने बताया कि राष्ट्रीय पोषण माह के आयोजन के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश भी दिए गए है। कोविड-19 से संबंधित निर्देशों का पालन करते हुए आवश्यक कार्यवाही किये जाने, बच्चों की उत्तरजीविता में सुधार हेतु बच्चों को स्तनपान के साथ-साथ उपरी आहार दिया जाना एक महत्वपूर्ण रणनीति है। पोषण माह के दौरान शीघ्र स्तनपान एवं 6 माह तक संपूर्ण स्तनपान को बढ़ावा दिया जाना है साथ ही पोषण माह के दौरान पोषण वाटिका का निर्माण को बढ़ावा दिया जाना है। उन्होंने बताया कि परिवारों समुदायों द्वारा पौष्टिक सब्जियां, फलदायक पौधों को घर की बाड़ियों, सामुदायिक बाड़ियां, बंजर भूमियों में रोपण करने ,छतों में पोषण वाटिका निर्माण हेतु प्रोत्साहित किया जाना है। अंर्तविभागीय समन्वय से पोषण वाटिका निर्माण कार्य की व्यापक पंहुच से ’’सही पोषण-छत्तीसगढ़ रोशन’’ की अवधारणा के तहत् लक्ष्यों की पूर्ति करने जनजागरूकता लाई जाएगी। अभियान के प्रथम दिवस जिले के अधिकांश आंगनबाड़ी केन्द्रें में सायकल रैली निकालकर ’’सही पोषण-छत्तीसगढ़ रोशन’’ के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया गया।

परियोजना लोहारा में कार्यक्रम आयोजित कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को माह भर की जाने वाली गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी गई। परियोजना अधिकारी श्रीमती कृत्तिका सिंह ने उपस्थित विभागीय अमलों को पोषण का संदेश घर-घर तक पहुचांने हेतु प्रेरित किया, माह भर चलने वाली गतिविधियों में पोषण वाटिका निर्माण, नारा लेखन , स्थानीय गतिविधियां , मातृवंदना सप्ताह,शिशु संरक्षण माह से संबंधित गतिविधियों का आयोजन, बेहतर पोषण हेतु आयुष-प्रसव पूर्व जांच, एवं गर्भावस्था तथा स्तनपान के दौरान पोषण पर जागरूकता कार्यक्रम , स्थानीय त्यौहार ’’तीज-पर्व,’’ को पोषण एवं स्वास्थ्य विषयों से जोड़ते हुए गतिविधिया, योग सत्र, एनीमिया कैम्प, व्यंजन प्रतियोगिता, गृहभेंट, विभिन्न निकायों की बैठक आयोजित कर पोषण जागरूकता का प्रचार -प्रसार किया जाएगा। इस संबंध में जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री आनंद तिवारी, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री सूर्यकांत गुप्ता ने परियोजना अधिकारियों की बैठक लेकर अभियान के सफलता के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। अभियान में स्थानीय जनप्रतिनिधि, सम्मानीय जन सभी की सहभागिता को बढ़ावा देकर अभियान को सफल बनाने की अपील की।

सप्ताहवार गतिविधियां

प्रथम सप्ताह में आंगनबाडी केन्द्रों, स्कुलों, ग्राम पंचायतों एवं अन्य उपलब्ध सामुदायिक स्थानों पर पोषण वाटिका विकसित करने हेतु वृक्षारोपण गतिविधियों का आयोजन, द्वितीय सप्ताह पोषण हेतु योग एवं आयुष ,विभिन्न समूहों तथा गर्भवती माता ,बच्चें एवं किशोरी बालिका हेतु योग सत्रों का आयोजन, तृतीय सप्ताह हाईबर्डन जिलों के आंगनबाड़ी केन्द्रों के हितग्राहियों को पोषण कीट एवं आईईसी सामग्री का वितरण और चतुर्थ सप्ताह गंभीर कुपोषित बच्चों के चिन्हान्कन एवं उन्हे पौष्टिक आहार वितरण हेतु अभियान का संचालन किया जाएगा।