अनेक उपायों के बाद भी पीछा नहीं छोड़ रही कंगाली, तो पैसों वाली जगह पर रखें ये फूल, नहीं होगी धन की कमी

Even after many measures the pauper is not giving up so keep these flowers at a place with money there will be no shortage of money

अनेक उपायों के बाद भी पीछा नहीं छोड़ रही कंगाली, तो पैसों वाली जगह पर रखें ये फूल, नहीं होगी धन की कमी

(Even after many measures, the pauper is not giving up, so keep these flowers at a place with money, there will be no shortage of money)

काफी दिनों के प्रयासों के बावजूद घर की कंगाली आपका साथ नहीं छोड़ रही है तो आप अपराजिता फूल के इस उपाय को जरूर करें. धन लाभ होगा.

प्रायः सभी लोग यह चाहते हैं कि उनके पास बेसुमार धन-दौलत हो. उनके घर परिवार में किसी प्रकार की आर्थिक तंगी न रहे. घर में सुख समृद्धि और शांति बनी रहे. कभी भी किसी चीज की कोई कमी न रहे.  इसके लिए वह अपने अधिकतम बुद्धि व विवेक के द्वारा कठिन से कठिन मेहनत भी करता है. इस सबके बावजूद भी यदि घर की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर बनी रहे. घर में कंगाली के साथ अशांति बनी रहे तो इसका कारण ग्रह दोष या वास्तु दोष भी हो सकता है. ऐसे में धन लाभ के लिए अपराजिता फूल से जुड़े ये उपाय जरूर करें.

अपराजिता के फूल का करें ये उपाय

हिंदू धर्म ग्रंथों के मुताबिक, घर में यदि आर्थिक समस्या हो तो सोमवार के दिन अपराजिता के 5 फूल को किसी बहती नदी में प्रवाहित करें. मान्यता है कि ऐसा करने से धन से जुड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं.

यदि नौकरी में तरक्की न हो रही हो या परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हो तथा व्यापार में मुनाफा की जगह नुकसान हो रहा हो, तो ऐसे में कार्यस्थल के बाहर अपराजिता के फूल के जड़ को किसी नीले रंग के वस्त्र में बांधकर टांग दें. इससे व्यापार में तरक्की होनी शुरू हो जायेगी और व्यापार में मुनाफा बढ़ जाएगा.

मंगलवार का दिन भगवान हनुमान जी को समर्पित होता है. मंगलवार के दिन व्रत रखते हुए बजरंगबली के चरणों में अपराजिता का फूल अर्पित करें. उसके बाद उसे अपनी पर्स या पैसे के स्थान पर में रख लें. मान्यता है कि ऐसा करने से घर कभी पैसों से खाली नहीं होगा.

सोमवार का दिन भगवान शिव की पूजा के लिए उत्तम होता है. मान्यता है कि सोमवार के दिन शिवलिंग पर अपराजिता के फूल चढ़ाने से भगवान भोलेनाथ अति प्रसन्न होते हैं. उनकी कृपा से घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है.