नौकरी लगाने के नाम पर 6 बेरोजगारों से लाखों रूपये की ठगी, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Lakhs of rupees cheated from 6 unemployed in the name of setting up a job, the accused was arrested by the police नौकरी लगाने के नाम पर ठगी का मामला सामने आ रहा है, इसके बाद भी लोग जालसाजों के चंगुल में फंसते जा रहे हैं

नौकरी लगाने के नाम पर 6 बेरोजगारों से लाखों रूपये की ठगी, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

लगातार नौकरी लगाने के नाम पर ठगी का मामला सामने आ रहा है, इसके बाद भी लोग जालसाजों के चंगुल में फंसते जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामले में धमतरी  जिले में विभिन्न पदों पर नौकरी लगाने के नाम पर छह बेरोजगार युवाओं से सात लाख की ठगी करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मामले में सिटी कोतवाली पुलिस ने एक आरोपी को 420 के तहत गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार डिवज कुमार साहू ने रिपोर्ट दर्ज करवाया था कि चिंरजीव सिन्हा धमतरी ने जल संसाधन विभाग धमतरी, राजस्व शाखा कार्यालय धमतरी एवं रोजगार कार्यालय धमतरी में नौकरी लगाने के नाम पर उससे एक लाख रुपये ले लिए। उसके अलावा पारसमणी साहू निवासी बगदेही कुरूद से 1.50 लाख युवराज यादव निवासी देवरी भखारा से एक लाख, तारा यादव निवासी डांडसेरा से एक लाख, दोवेश साहू निवासी गरियाबंद से 1.50 लाख, चामेश यादव पोटियाडीह से एक लाख रुपये लेकर धोखाधड़ी की। उसने कुल सात लाख रुपये का चूना नौकरी के नाम पर बेरोजगारों को लगाया है।  सिटी कोतवाली पुलिस धमतरी ने 25 फरवरी को चिरंजीव सिन्हा के खिलाफ धोखाधड़ी की धारा 420 के तहत जुर्म दर्ज किया जिसके बाद आरोपी फरार चल रहा था पुलिस ने 5 महीने बाद आरोपी चिरंजीव सिन्हा को गिरफ्तार कर लिया है । मिली जानकारी के अनुसार आरोपित चिरंजीव सिन्हा ने डिवज कुमार साहू को दो माह के अंदर सरकारी नौकरी ज्वाइन कराने का झांसा दिया। उसने दो माह बाद एक लेटर दिया और उसे नौकरी का ज्वाइनिंग लेटर बताया। इसके बाद एक दिन राजस्व शाखा आफिस धमतरी में डिवज कुमार को ले गया और कुछ देर वहां बैठाकर रखा, आफिस से बाहर आकर बोला कि अधिकारी नहीं है। कुछ दिन बाद आना तब नौकरी ज्वाइन करवा दूंगा। पैसे वापस मांगने पर सभी छह बेरोजगारों को टालमटोल करता रहा। फिलहाल सिटी कोतवाली पुलिस ने आरोपी चिरंजीव सिन्हा के खिलाफ धोखाधड़ी की धारा 420 के तहत जुर्म दर्ज कर आगे की विवेचना में जुट गई है।