अहमदाबाद। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज अचानक अपने पद से इस्तीफा दे दिया। मुख्यमंत्री के इस्तीफे से राजधानी गांधीनगर में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। बता दें कि आज सुबह ही अहमदाबाद के वैष्णोदेवी सर्कल के निकट बने सरदारधाम का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ई लोकार्पण किया है और इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल और प्रदेश भाजपा प्रमुख समेत केन्द्रीय मंत्री मनसुख मांडविया व पुरुषोत्तम रूपाला भी उपस्थित थे। माना जा रहा है कि सरदारधाम के लोकार्पण कार्यक्रम में ही कुछ उठापटक हुई है। कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और पार्टी के वरिष्ठ नेता सीधे राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंचे। राजभवन में विजय रूपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत को मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफा सौंप दिया। राज्यपाल से मिलने के बाद विजय रूपाणी ने पत्रकार परिषद को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की घोषणा की। रूपाणी ने कहा कि मेरे जैसे कार्यकर्ता को जो अवसर दिया गया, उसके लिए मैं पार्टी का आभारी हूं। मैंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है और अब पार्टी जो भी जिम्मेदारी सौंपेगी उसे निभाऊंगा। एक प्रश्न के उत्तर में रूपाणी ने कहा कि मेरी संगठन के साथ कोई तकरार नहीं थी। पार्टी के नेतृत्व में ही हमने चुनाव जीता था और मुझे पांच साल के लिए जो जिम्मेदारी सौंपी गई थी, उसे मैंने निभाया है। इसके लिए मैं भाजपा का आभार व्यक्त करता हूं कि उसने मुझे यह अवसर प्रदान किया। विजय रूपाणी के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद गुजरात की राजधानी गांधीनगर में राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। हाल ही में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल के नेतृत्व में भाजपा सरकार ने पांच साल पूर्ण किए हैं। अगले साल के अंत में गुजरात विधानसभा के चुनाव होने हैं और उससे पहले विजय रूपाणी के मुख्यमंत्री पद के इस्तीफे ने सभी चौंका दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here