उत्तम मेमोरियल काॅलेज छात्रों के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत है। इसी तारतम्य में पिछले सत्र में विज्ञान संकाय एवं कम्प्यूटर विज्ञान संकाय द्वारा नेशनल सेमीनार का सफलता पूर्वक आयोजन किया गया था जिसमें कई राज्यों के विद्वानों ने अपने विचार एवं शोध प्रस्तुत किये थे। चूँकि महाविद्यालय पूर्व से ही छात्रों के बौधिक विकास के लिए इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन करते आ रही है और इसी क्रम में दिनांक २४/०१/२०२१ को उत्तम मेमोरियल काॅलेज के काॅमर्स विभाग द्वारा डिजिटल फाईनेंस एजुकेशन अवेयरनेस बाय बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज (BSE) विषय पर राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें ५६० से भी ज्यादा प्रतिभागियों ने अपना पंजीयन कराया यह वेबीनार सभी के लिए निःशुल्क थी। इस राष्ट्रीय वेबीनार के प्रमुख वक्ता श्री हेमराज जोशी जी (सीए, नई दिल्ली), श्री जफरूदीन सर जी हरियाणा (रिसोर्स पर्सन, बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज) एवं श्रीमती गायत्री जोशी जी, राजस्थान (रिसोर्स पर्सन, बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज) के द्वारा इस विषय पर अपने विचार एवं सुझाव प्रदान किये गए तथा प्रतिभागियों के प्रश्नों के जवाब देते हुए शेयर, म्यूच्युल फंड, एफ.डी. इत्यादि के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान किया गया एवं डिजिटल लेनदेन एवं इस प्रक्रिया में होनेवाले धोखाधड़ी एवं इससे बचाव के उपायों पर विशेष सुझाव दिये एवं प्रतिभागियों को शोर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट एवं लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट के बारे में भी जानकारी प्रदान की। कोराना के इस विषम परिस्थिति में विद्यार्थियों को नेशनल वेबीनार के द्वारा इस संकट की घड़ी में किस प्रकार से और किस क्षेत्र में निवेश करें ताकि नुकशान न हो जालसाजों से बचते हुए सावधानी पूर्वक वित्तीय लेनेदेन करें इसमें विशेष मार्गदर्शन प्रदान किया। महाविद्यालय के चेयरमैन श्री गौतम चैधरी जी ने इस कार्यक्रम के सफलता पूर्वक आयोजन के लिए सभी वक्ताओं एवं महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. गोमती सिंह, कार्यक्रम संचालक श्री रविन्द्र कुमार, सह-संचालक श्री गोपाल श्रीवास एवं सभी सदस्यों एवं सभी प्रतिभागियों को बधाई दी एवं इस तरह के कार्यक्रम कला संकाय, विज्ञान संकाय, कम्प्यूटर विज्ञान संकाय एवं मैनेजमेंट संकाय के विभाग द्वारा आयोजित हो इसके लिए सभी संकाय प्रमुख को आदेशित करते हुए सुझाव भी दिये, ताकि विद्यार्थियों को पढ़ाई के अलावा विभिन्न क्षेत्रों के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके एवं इससे संबंधित क्षेत्र में शोध भी कर सकें और रोजगार के अवसर प्राप्त करे सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here